23.6 C
New York
Wednesday, May 29, 2024

Buy now

spot_img

सिरमौरी ताल में पीड़ित परिवार से मिले नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने जिला सिरमौर के पांवटा साहिब पहुँचे और आपदाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा किया। इस दौरान वह आपदा प्रभावित परिवारों से मिले। उन्होंने आपदा प्रभावित लोगों की हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। नेता प्रतिपक्ष सिरमौरी ताल बादल फटने से आए मलबे और भूस्खलन में अपना सब कुछ गंवाने वाले परिवार से मिले और अपनी शोक संवेदना प्रकट की।

उन्होंने कहा जीवन की हानि बहुत दुःखद है। पीड़ित परिवार से मिलकर मन वेदना से भर गया। ईश्वर मृतकों की आत्मा की शांति प्रदान करे और परिजनों को इस असहनीय दुःख को सहन करने की क्षमता प्रदान करे।

इस दौरान नेता प्रतिपक्ष राजबन स्थित सीसीआई के आडिटोरियम गये और आपदा प्रभावित परिवारों से मिलकर उनका हाल चाल जाना। उन्होंने सीसीआई के अधिकारियों को आपदा प्रभावितों की हर संभव मदद करने का आग्रह किया। इस मौके पर उनके साथ शिमला के सांसद सुरेश कश्यप और पांवटा साहिब के विधायक सुखराम चौधरी भी मौजूद रहे।

नेता प्रतिपक्ष ने सिरमौरी ताल में एक ही परिवार के पांच लोगों के निधन को बड़ी क्षति बताया, उन्होंने कहा गाँव में वह घर सबसे सुरक्षित स्थान पर था परंतु भूस्खलन की चपेट में आ गया। उन्होंने आपदा प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए सरकार से निवेदन किया कि आपदा प्रभावितों की ज्यादा से ज्यादा और जल्दी से जल्दी सहायता की जाए।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भारतीय जानता पार्टी भी सिरमौरी ताल के प्रभावित परिवार की मदद करेगी। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता आपदा प्रभावित के साथ खड़ा है।

नेता प्रतिपक्ष आपदा प्रभावित गिरी बस्ती भी गये और वहां के आपदा प्रभावितों से मिलकर उनका हाल-चाल जाना। उन्होंने सरकार से आपदा प्रभावितों को जल्दी से जल्दी राहत प्रदान करने की मांग की।

नेता प्रतिपक्ष ने कच्ची ढांग का भी दौरा किया। कच्ची ढांग के पास नेशनल हाईवे बार-बार भूस्खलन के कारण बंद हो जाता है। इस मुद्दे पर उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों से बात की और नेशनल हाईवे को खोलने के निर्देश दिये। इसके साथ ही उन्होंने NHAI के अधिकारियों को कच्ची ढांग के पास बार-बार हो रहे भूस्खलन के स्थाई समाधान खोजने और वैकल्पिक मार्ग खोजने के भी निर्देश दिये।

उन्होंने कहा कि बीस साल से यह समस्या बनी हुई है, इसलिए इसका स्थायी समाधान किया जाना आवश्यक है। एनएचएआई के अधिकारियों ने उनके निर्देशों को अतिशीघ्र अमल में लाने का भरोसा दिया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,810FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles